Follow us on Facebook

Ads Here

Friday, 19 March 2021

C.A Bhavani devi

Bhavani devi fencer of india –

नमस्कार दोस्तों आज हम बात करते है महिला शसक्तीकरण की मिसाल भवानी देवी के विषय में जिनका जन्म  27  अगस्त 1993  में  चेन्नई में हुआ था । 

भवानी देवी ने अपना नाम  इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में दर्ज करवाया है, ऐसा कारनामा करने वाली वह पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनीं है।

भवानी ने समायोजित आधिकारिक रैंकिंग (एओआर) के आधार पर ओलंपिक क्वालीफिकेशन (दक्षता) हासिल किया। भवानी देवी अंतरराष्ट्रीय तलवारबाजी प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं हैं।

भारत की अंतरराष्ट्रीय महिला तलवारबाज भवानी देवी ने इस साल 23 जुलाई से प्रारंभ होने वाले टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर लिया है। तलवारबाजी में भवानी देवी ने इतिहास रच दिया है। ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाली भवानी पहली भारतीय तलवारबाज बनीं हैं। वे ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई करने वाली भारत की पहली तलवारबाज है जिन्हे खेल मंत्री किरण रिजजू ने भी भवानी को बधाई दी है। भवानी ने समायोजित आधिकारिक रैंकिंग (एओआर) के आधार पर ओलंपिक क्वालीफिकेशन हासिल किया है।भवानी देवी अंतरराष्ट्रीय तलवारबाजी प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय भी हैं.

टोक्या ओलंपिक –  

टोक्यो ओलिंपिक 23 जुलाई से शुरू होगा और 08 अगस्त तक चलेगा ।वहीं इसके बाद पैराओलंपिक गेम्स की भी शुरुआत होगी। पैराओलिंपिक गेम्स 24 अगस्त से लेकर 05 सितंबर तक चलेगा । इन दोनों टूर्नामेंट का आयोजन पिछले साल ही होना था । लेकिन कोरोना वायरस की वजह से इसे स्थगित करना पड़ा।

विश्व रैंकिंग के आधार पर 05 अप्रैल 2021 तक एशिया-ओशिनिया क्षेत्र के लिए दो जगह थीं । भवानी फिलहाल 45वें स्थान पर  कायम है और रैंकिंग के आधार पर वे एक स्थान हासिल करने में सफल रहेंगी ।  इस खिलाडी के आधिकारिक क्वालीफिकेशन पर मुहर पांच अप्रैल को रैंकिंग जारी होने पर लगेगी ।

भारत का ओलिंपिक कोटा – 

यह भारत का 50वां ओलिंपिक कोटा है । भवानी  ने साल 2017 में आइसलैंड में पहली बार कोई अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट जीता था ।

नेशनल चैम्पियन भवानी –  

भवानी पिछले चार साल से निकोला जानोट्टी के साथ ट्रेनिंग कर रही हैं । निकोला कई गोल्ड मेडलिस्ट को ट्रेन कर चुके हैं। साल 2004 में तलवारबाजी को करियर चुनने वाली भवानी 8 बार नेशनल चैम्पियन रह चुकी हैं। इस तलवारबाज ने हंगरी में हुए विश्व कप में भी जगह बनाया था ।

तलवारबाजी का सफर –

 साल 2004 में चेन्नई के स्कूल में तलवारबाजी के साथ अन्य खेलों के ट्रायल हुए । दूसरे खेलों में कोटा फुल होने के बाद केवल तलवारबाजी में जगह बची थी ।  इसलिए वहीं से भवानी देवी के तलवारबाजी का सफर शुरू हुआ और वे आज देश की सबसे बड़ी तलवारबाज खिलाड़ी बन गई हैं ।  उन्होंने साल 2010 में एशियन चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता था । आगे भी ऐसे अनेक पदक जीतकर ये भारत की बेटी भारत की धरती को  गौरान्वित करेंगी । भवानी देवी भावी पीढ़ी के लिए एक प्रेरणा श्रोत है , इनके जज्बे को नमन है ।

 

No comments:

Post a Comment