Follow us on Facebook

Ads Here

Monday, 21 December 2020

फिरोजशाह तुगलक

 

फिरोजशाह तुगलक…

फिरोजशाह तुगलक मोहम्मद बिन तुगलक के चचेरे भाई थे ।

फिरोजशाह का राजनीतिक जीवन –

फिरोज शाह ने हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा नगरकोट में ज्वालामुखी मंदिर को लूटा। वह वहां से कुछ पुस्तक ले आया जिन का फारसी में अनुवाद करवाया। जिनमें से प्रमुख धार्मिक पुस्तक (दलायले फिरोजशाही) है।

प्रशासनिक जीवन पर प्रभाव-

इन्होंने खलीफा से दो बार स्वीकृति प्राप्त की थी। इनके समय में भ्रष्टाचार चरम पर था।

आर्थिक स्थिति –

फिरोजशाह ने अपने  श्रमिकों को वेतन के रूप में जगीर देना प्रारंभ किया। तथा इन्होंने इक्ता को वंशानुगत कर दिया। इन्होंने ससगनी  नामक चांदी के सिक्के चलाएं ।

सामाजिक स्थिति – 

फिरोजशाह तुगलक सर्वाधिक नहर निर्माता था तथा पहला नहर निर्माता गयासुद्दीन तुगलक को कहा जाता है। उनके समय में सिंचाई कर को हक शरव /शुर्ष थे जिसमें फसल का 1/10भाग लिया जाता था।

धार्मिक स्थिति-

इनके समय में दो प्रमुख दरबारी देखे गए।बहराइच की सलार गाजी के मकबरे के दर्शन के बाद फिरोजशाह तुगलक रूढ़ीवादी एवं धार्मिक रूप से वह कट्टर हो गया । प्रशासनिक कार्यों में इस्लामी कानून के पालन को प्रश्रय दिया ।मजार पीर बाबा जैसे स्थलों पर मुस्लिम महिलाओं के जाने पर रोक लगा दिया। फिरोजशाह ने ब्राह्मणों से भी जजिया कर लिया ।
1. जियाउद्दीन बरनी-तारीख ए फिरोजशाही
2.शम्स ए सिराज अफीक-तारीख ए फिरोजशाही
*फिरोजशाह तुगलक ने एक किताब लिखी-फुतुहात ए फिरोजशाही जो कि इन की आत्मकथा है।
उन्होंने जनता की कमाई के लिए दिल्ली में सर्वाधिक फलों के बाग लगाए थे। दिल्ली सल्तनत में प्रथम  बार फल के बाग लगवाने का श्रेय अलाउद्दीन खिलजी को दिया जाता है।

वार्षिक आय का विवरण-

दिल्ली सल्तनत की वार्षिक कुल आय का विवरण देने के लिए फिरोजशाह तुगलक ने ख्वाजा हिसामुद्दीन को नियुक्त किया जिन्होंने व्यारा दिया 6 करोड़ सात लाख टंका ।
इसने लोक निर्माण विभाग की स्थापना करवाई। फिरोज शाह के शासनकाल में मलिक गाजी सहना प्रमुख वास्तुकार थे । इनके समय में फिरोज शाह ने 200 नगरों का निर्माण करवाया था।

फिरोज शाह द्वारा बताए गए शहर-

1.जौनपुर
 2.फिरोजपुर
 3फिरोजाबाद
 4.हिसार फिरोजा
 5.फतेहाबाद

पुराने स्थापत्य की मरम्मत-

कुतुब मीनार एवं जमा मस्जिद की मरम्मत करवाई।

नये विभाग की स्थापना-

दीवाने खैरात ( रोजगार विभाग) एवं दीवाने बंदगान की स्थापना कराई, जिसमें उन्होंने दासों के निर्यात पर पाबंदी लगाया।
फिरोजशाह तुगलक ने अपने समय काल में अनेक सफल कार्य किए जिससे अपने शासनकाल में प्रसिद्ध हुआ।

No comments:

Post a Comment